जीवन ऐसा ही है

रोज‌ रात को तरुशिखरों पर बोला  करते उल्लू। सोते-सोते जग जाता है , मेरे घर का गिल्लू॥ काँव-काँव  कौवे को पाकर बच्चे दौड़ा करते हैं- कभी-कभी तो खुद ही वो आपस में रोड़ा करते हैं। सुबह-सवेरे जब पेड़ों …

Source: जीवन ऐसा ही है

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s